Uttarakhand: Land and People

Front Cover
M.D. Publications Pvt. Ltd., 1995 - Uttar Khand Region (India) - 149 pages
2 Reviews
This book presents a profile of this mountainous region providing useful information on th general geography; history; climate and weather; soils; geology; forests; wild animals; economic profile; cultural set-up; hill resorts; protected areas and environmental degradation of Uttarakhand.
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

First of all I would like to thanks to Mr. Negi for providing such valuable information in the form of book. This book has been written in very simple language that one can gain the knowledge easily.

User Review - Flag as inappropriate

इस किताब में वर्तमान समय में उत्तराखंड के पहाड़ी जिलों के बारे में बताया गया है। इसमें अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, पौड़ी, नैनीताल, तिहरी, उत्तरकाशी आदि जिलों के बारे में बताया गया। इसमें यहां के सामान्य भूगोल, जरूरत की सूचनाएं, क्लाइमेट एंड वेदर, जियोलाजी, फारेस्ट, वाइल्ड एनिमल, इकोनामी प्रोफाइल, कल्चरल सेटअप आदि शामिल है। यह किताब उत्तराखंड के प्रोफाइल का निचोड़ है। जो कि किसी भी शोधार्थी, पर्यावरणविद्, ट्रेवलर और सामान्य आदमी के लिए काफी लाभदायक है।
उत्तराखंड एशिया के सबसे सुदंर भूमि में गिना जाता है। इसके अलावा इस किताब में उत्तराखंड के प्राचीन इतिहास, मध्यकालीन इतिहास के बारे में भी जानकारी दी गई है। इसके अलावा बिट्रिश शासन के समय को भी बताया गया है। देश की आजादी के संघर्ष को भी किताब में दर्शाया गया है। 1857 की क्रांति के समय उत्तराखंड की ज्यादा भागीदारी नहीं थी जो कि राजनीतिक इंग्नोरेंश की वजह से हुआ। लेकिन आगे कई आंदोलनों ने बिट्रिश शासन को हिला दिया। अल्मोड़ा अखबार और शक्ति जैसे कई समाचार पत्रों ने लोगों को जागरूक करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। राष्ट्रीय आंदोलनों में भी यहां के लोगों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जैसे दांडी मार्च, भारत छोड़ो आंदोलन आदि में। स्वतंत्रता संघर्ष में अल्मोड़ा, हल्दानी, नैनीताल, ऋषिकेश, श्रीनगर आदि जगह अपनी अलग पहचान रखते है। ऐसी ही जानकारियां किताब में दी गई हैं।
बिट्रिश शासन के समय ही पहाड़ी क्षेत्रों में चाय की बागानी को विकसित किया गया था। इसमें अल्मोड़ा, गोरखताल, भीमताल, रामनगर आदि शामिल थे। इसके अलावा किताब में क्लाइमेट और वेदर को लेकर भी जानकारी दी गई है। इसमें पर्यावरण में हो रहे बदलावों के विभिन्न कारणों के बारे में भी जानकारी दी गई है। इसके अन्य भाग में वहां के लोगों के रहन सहन की भी जानकारी मिलती है।
 

Contents

Introduction
1
Historical Background
17
Climate and Weather
27
Soils
37
Geology
49
Forests
61
Wild Animals
75
Economic Profile
85
Cultural Setup
95
Hill Resorts
105
National Parks Sanctuaries and Biosphere Reserves
115
Environmental Degradation
129
Select Bibliography
145
Index
147
Copyright

Common terms and phrases

Bibliographic information